Type Here to Get Search Results !

सिर्फ 100 रुपये से शुरू हो सकता है Bitcoin में निवेश, ऐसे ख़रीदे बिटकॉइन

Bitcoin -Investment Can Start with Just Rs 100
Bitcoin

Bitcoin -Investment Can Start with Just Rs 100

Bitcoin समेत किसी भी क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करना अब काफी आसान हो गया है. रिटेल निवेशक इसमें 100 रुपए भी निवेश कर सकते हैं.

16 फरवरी को यह पहली बार 50 हजार डॉलर को पार कर गया। यह 17 फरवरी को 52 हजार डॉलर, 19 फरवरी को 56 हजार डॉलर, 20 फरवरी को 57 हजार डॉलर, 21 फरवरी को 58 हजार डॉलर पर पहुंच गया। उसके बाद कुछ दिनों तक इसकी कीमत में गिरावट आई। 13 मार्च को एक बार फिर यह 61 हजार के स्तर को छू गया। टेस्ला के अलावा बैंक ऑफ न्यूयॉर्क मेलन, ब्लैकरॉक, क्रेडिट कार्ड दिग्गज मास्टरकार्ड ने भी इस क्रिप्टोकरेंसी का समर्थन किया है, जिससे इसकी कीमत में उछाल आया है।

बिटकॉइन की कीमत फिलहाल 36,376.90 डॉलर के करीब है।

Bitcoin - बिटकॉइन

चीनी सरकार भी ऊर्जा खपत को लेकर बहुत गंभीर है। पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना ने पिछले महीने क्रिप्टो सेवाओं पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की। उसके बाद बिटकॉइन, एथेरियम जैसी डिजिटल करेंसी में भारी गिरावट आई। भारत सरकार भी निजी क्रिप्टोकरेंसी के खिलाफ है। आरबीआई की मौद्रिक नीति की घोषणा करते हुए, रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने फिर से कहा कि रिजर्व बैंक क्रिप्टोकरेंसी पर अपने रुख पर कायम है और वह इसके खिलाफ है।

रिपोर्ट के मुताबिक इस समय देश में क्रिप्टो करेंसी में निवेश करने वालों की संख्या करीब एक करोड़ है और इन लोगों के पास करीब 10 हजार करोड़ रुपए की क्रिप्टोकॉइन है। एक वरिष्ठ बैंकिंग अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर रॉयटर्स को बताया कि आरबीआई का कहना है कि इस रास्ते से मनी लॉन्ड्रिंग की काफी संभावनाएं हैं। इसलिए बैंकों को बैंकिंग सुविधाएं नहीं देनी चाहिए।

फाइनेंशियल एक्सप्रेस में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, दुनिया में सभी क्रिप्टोकॉइन का कुल मार्केट कैप 2 ट्रिलियन डॉलर को पार कर गया है। 7 जनवरी 2021 को यह मार्केट कैप सिर्फ $1 ट्रिलियन था। मार्केट कैप सिर्फ तीन महीनों में दोगुना हो गया है। इसमें से आधे से अधिक का योगदान केवल बिटकॉइन द्वारा किया जाता है। बिटकॉइन का मार्केट कैप भी 1.13 ट्रिलियन डॉलर को पार कर गया है।

IEA के आंकड़ों के अनुसार, 2018 में भारत की कुल ऊर्जा खपत (Energy Consumption) 1277 TWH थी जबकि दुनिया की ऊर्जा खपत 23398 TWH थी। अमेरिका की खपत 4033 TWH, रूस की 929 TWH, जापान की 940 TWH, फ्रांस की 450 TWH और चीन की 6453 TWH रही। वर्ष 2019-20 में भारत की सकल खपत 1383 TWH थी। इस तरह भारत एक साल में जितनी ऊर्जा की खपत करता है उसका आठवां हिस्सा बिटकॉइन माइनिंग में खर्च हो जाता है।

खैर, क्रिप्टो एक्सचेंज का चयन करना एक जटिल प्रक्रिया है। यहां की बातें तकनीकी विशेषज्ञ भी समझ रहे हैं। हालाँकि, WazirX जैसे कुछ एक्सचेंज हैं, जहाँ खुदरा निवेशक आसानी से निवेश कर सकते हैं। इतना सब होने के बाद भी खुदरा निवेशकों को इसमें समझदारी से निवेश करने को कहा जाता है. अगर आप भी क्रिप्टोकॉइन (Cryptocoin) में निवेश करना चाहते हैं, तो पहले इसके बारे में गहराई से अध्ययन करें। इसमें निवेश का फैसला बारीकियों को समझने के बाद ही लें।

यह भी पढ़ें - Earn Free Cryptocoin Online Without Investment [Edition 2021]

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.